Friday, 31 July 2015

देव वंदना

भगवन पुरातन पुरुष हो तुम, विश्व के आधार हो,
हो आदिदेव, तथैव उत्तम धाम, अपरम्पार हो।।
ज्ञाता तुम्ही हो, जानने के योग्य भी, भगवंत हो,
संसार में, व्यापे हुए हो, देव देव अनंत हो।।
तुम वायु यम पावक वरुण एवं तुम्ही राकेश हो,
ब्रह्मा तथा उनके पिता भी, आप ही अखिलेश हो।।
हे देव देव, प्रणाम देव, प्रणाम सहस्त्रों बार हो
फिर फिर प्रणाम, प्रणाम नाथ, प्रणाम बारम्बार हो।।
सानंद सन्मुख और पीछे से प्रणाम सुरेश हो,
हरि बार बार प्रणाम, चारों ओर से, सर्वेश हो।।
है वीर्य शौर्य अनंत बलधारी, अतुल बलवंत हो,
व्यापे हुए सब में, इसीसे सर्व हे, भगवंत हो।।
अच्युत हंसाने के लिए, आहार और विहार में,
सोते अकेले, बैठते सब में किसी व्यवहार में।।
सबकी क्षमा हम मांगते, जो कुछ हुआ, अपराध हो,
संसार में तुम, अतुल अपरम्पार, और अगाध हो।।
सारे चराचर के, पिता हैं आप, जग आधार हैं,
हैं आप, गुरुओं के गुरु, अति पूज्य और महान हैं।।
त्रैलोक्य में, तुमसा प्रभु, कोई, कहीं भी, हैं नहीं,
अनुपम अतुल्य प्रभाव बढ़कर, कौन फिर होगा कहीं।।
इस हेतु वंदन, योग, ईश शरीर चरणों में किया,
हम आपको,करते प्रणाम प्रसन्न करने के लिए।।
ज्यों तात सुत के, प्रिया प्रिया के, मित्र सहचर अर्थ हैं,
अपराध मेरा, आप त्योंही, सहने हेतु समर्थ हैं..
अपराध मेरा आप त्योंही सहने हेतु समर्थ हैं।।

Thursday, 5 February 2015

चली है सुशासन कि बयार कि अब इसका मान रखियो !

चली है सुशासन कि बयार कि अब इसका मान रखियो
दिल्ली में आया है चुनाव कि थोड़ा भैय्या ध्यान रखियों
पहले राष्ट्र को जीते फिर हम महाराष्ट्र भी जीते
हरियाणा का कुरुक्षेत्र भी भैय्या हम ही जीते
झारखण्ड का ताज मिला है, हीरेवाली माटी में
पहली बार कमल खिला है काश्मीर की घाटी में
यह है कांग्रेस मुक्त अभियान कि इसके विधान बनियो !
"आप" को करके बाहर पुण्य का काम करियो
चली है सुशासन कि बयार कि अब इसका मान रखियो
दिल्ली में आया है चुनाव कि थोड़ा भैय्या ध्यान रखियों

-श्री बृजेश कुमार


कीचड़ चारों ओर बहुत है अब तो कमल खिलाना होगा


हिम शिखरों को छला गया है षडियन्त्रों के छल छंदों में
जीती भूमि गवा डाली हमने पड़कर अनुबंधों में
अब की बार नहीं पड़ जाना आपस के इन द्वंदों में
आओ सत्ता भार सौंप दें राष्ट्र भक्तों के कन्धों पे
 देश को स्वर्णिम विकास के शिखर तलक ले जाना होगा
कीचड़ चारों ओर बहुत है अब तो सभी जगह कमल खिलाना होगा ! 
-श्री  राधाकांत पाण्डेय


घर घर मोदी जैसा व्यक्ति चाहता हूँ मैं


राम की ही शक्ति और राम की ही भक्ति में राम की अनुरक्ति में विरक्ति चाहता हूँ मैं
जिस चक्र से शिशुपाल वध हो गया हे आराध्य देव वही शक्ति चाहता हूँ मैं
जिनकी शहादतों ने - इतिहास बदला है हर घर वही राष्ट्र-भक्ति चाहता हूँ मैं
हर-हर महादेव इस दुनिया में गूंजे  , घर घर मोदी जैसा व्यक्ति चाहता हूँ मैं
-श्री राधाकांत पाण्डेय

रामराज्य मूल मंत्र देश का बनेगा


बनके सफ़ेदपॉश पोत रहे कालिख़ जो
भारत को ऐसे सड़े यन्त्र से छुड़ाएंगे
शेरोंवाली खाल ओड़ भेड़िये छिपे यहाँ
उन भेड़ियों को राजतन्त्र से भगाएंगे

जातिवाद, धर्मवाद, शेत्रवादिता है यहाँ
इन व्याधियों को लोक तंत्र से हटाएंगे
रामराज्य मूल मंत्र देश का बनेगा
और दिल्ली में विकसवाला कमल खिलाएंगे
श्री राधाकांत पाण्डेय

Thursday, 14 August 2014

अब तो अपना लालकिला स्वाभिमानी भाषा बोलेगा !!




अब तो अपना लालकिला- स्वाभिमानी भाषा बोलेगा !!
अब तो अपना लालकिला-मर्दानी भाषा बोलेगा !! 
अब ना सूरज फिर कभी बचकानी भाषा बोलेगा
मौसम जो भी हो शासक अब, हिन्दुस्तानी भाषा बोलेगा!!

अब वो युग बीत चूका,
जब अपना भारत बेगानी भाषा बोला था
जब 47  को AK-47  से डरते देखा था
जब खुद्दारी को गद्दारी का पानी भरते देखा था 
जब सिंदूरों को तंदूरों में जलकर मरते देखा था
अब तो विक्रम का सिंघासन वरदानी भाषा बोलेगा
मौसम जो भी हो शासक, हिन्दुस्तानी भाषा बोलेगा !!
अब तो अपना लालकिला मर्दानी भाषा बोलेगा !!

अब वो युग बीत चुका, 
जब भारत बेगानी भाषा बोला था
जब हमने चन्दन पर, साँपों का पहरा देखा था
जब हमने सिंघासन को भी गूंगा बहरा देखा था
जब हमने भारत माँ के, चेहरे पे आंसूं को, ठहरा देखा था
दण्डनीति का नायक, अब नीति की ही भाषा बोलेगा !!
मौसम जो भी हो शासक अब, हिन्दुस्तानी भाषा बोलेगा !!
अब तो अपना लालकिला मर्दानी भाषा बोलेगा !!

वो दिन अब दूर नहीं जब हम विष-बेलें  उखाड़ फेकेंगे
वो दिन दूर नहीं जब हर भीम की बाहें दुशासन को खींचेगी
वो दिन अब दूर नहीं जब भ्रष्टाचारी-व्यभिचारी
भारतीय संस्कृति से डर, भारत माँ का दामन तज देंगे
अब तो अपना लालकिला मर्दानी भाषा बोलेगा!! 
मौसम जो भी हो सिंघासन अब, पहचानी भाषा बोलेगा !!
अब हर मानस नीति और स्वाभिमान की, हिन्दुस्तानी भाषा बोलेगा!!
वर्षों बाद अपना लालकिला स्वाभिमानी भाषा बोला है !!

 सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ! जय हिन्द !!
 सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ! जय हिन्द !!

Tuesday, 22 April 2014

Coffee Cups



A Group of friends, highly established in their careers, got together to visit their old university professor. Conversation soon turned into complaints about stress in work and life. Offering his guests coffee, the professor went to the kitchen and returned with a large pot of coffee and assortment of cups – porcelain, plastic, glass, crystal, some plain looking, some expensive, some exquisite – telling them to help themselves to the coffee.When all the students had a cup of coffee in hand, the professor said:-“If you noticed, all the nice looking expensive cups were taken up, leaving behind the plain and cheap ones. 
While it is normal for you to want only the best for yourselves, that is the source of problems and stress.
Be assured that the cup itself adds no quality to the coffee.
In most cases it is just more expensive and in some cases even hides what we drink.

What all of you really wanted was coffee, not the cup, but you consciously went for the best cups…..And then began envying each other’s cups.
Now consider this: “Life is the COFFEE; the jobs, money and status in the society are the CUPS. They are just tools to hold and contain Life, and the type of cup we have does not define, nor change the quality of Life we live.
Sometimes, by concentrating only on the cup, we fail to enjoy the coffee God has provided us”.
Remember God brews the coffee, not the cups!!

The happiest people don’t have the best of everything. They just make the best of everything.
Live simply... Love generously... Care deeply... Speak kindly...


   ENJOY YOUR COFFEE!!


Sunday, 10 November 2013

Is Candy a Foe for our teeth??

Several Studies have shown a relation between dental caries & consumption of carbohydrates.(Sugar/Sugar candies)

Does this mean:-
If you have a Sweet Tooth you will also have a tooth decay?? "


Dental Caries- defined as the gradual decay of the teeth. A dental cavity is a hole in tooth caused by dental caries. 

Main factors responsible for dental caries:-  
  • Bacteria        
  • Carbhohydrate containing foods.
  • Length of time of teeth exposure to sugars/Carbs
All these factors must occur simultaneously for dental caries to convert into a Dental cavity.
There is a strong relationship between length of time for which sugar are present in mouth & development of caries.
 
-Sticky foods like carmel candies, potato chips,raisins etc which adhere to tooth for longer periods can lead to such tooth decay.
-Sipping sweetened/carbonated beverages continually can promote tooth decay...eg. Nursing bottle syndrome. 
Bacteria normally present in mouth interact with dietary carbs to produce acids. 
Tooth decay is caused by acid-producing bacteria in mouth that feast on carbohydrates, be it sugar from candy or starch from wholesome foods such as biscuits or bread. 
The Acids not the sugars or carbohydrates cause decay.
Lets Discuss Process of Cavity formation - Tooth Decay...
Oral bacteria feed on carbohydrates & produce acid as a byproduct of simple fermentation.
Such bacteria live on the teeth as biofilm called Plaque.
The acid produced degrades tooth enamel.

A human tooth is in a constant state of mineralization & demineralization.
Saliva helps neutralize this acid.
But if saliva secretion is less.The region gets too acidic, then demineralization takes over mineralization.Tooth decay sets in.
 

As all carbs are responsible for acid formation in mouth. Not only SUCROSE or SUGAR CANDIES but all types of sugars-fructose, glucose, sucrose, maltose, lactose can promote cavity formation.
Remedies:-
Reduce the time of dental contact with carbohydrates.
Certain foods may help in counteracting the effects of acids produced by oral bacteria .
e.g. Aged cheese, fibrous fruits, citrus fruits, celery stimulates production of saliva in generous amounts.
Saliva clears the mouth of food & counteracts bacterial acid production.

As saliva production increases during the meals.Thus, sugars/carbs consumed in between meals is considered less likely to cause tooth decay. 

Sipping plain water post carbohydrate consumption to clear the oral cavity of the food.
Or using mouth wash to rinse off mouth post food consumption is best way to combat caries.



 
I may conclude, candies may cause tooth decay but they can't be termed as sole culprits.

Its our negligence towards Good Oral Hygiene thats bigger factor responsible for Tooth Decay.
Maintain
Good Oral Hygiene!! Keep smiling!!


Tuesday, 29 October 2013

Pamper your companion!!

Nice short story:-
There was a man with four wives. He loved his fourth wife the most and took a great care of her and gave her the best.
He also loved his third wife and always wanted to show her off to his friends. However, he was always had a fear that she might runaway with some other man.
He loved his second wife too. Whenever he faced some problems, he always turned to his second wife and she would always help him out.

He did not love his first wife though she loved him deeply, was very loyal to him and took great care of him. One day the man fell very ill and knew that he is going to die soon.

He told himself, "I have four wives with me. I will take one of them along with me when I die to keep company in my death."

Thus, he asked the fourth wife to die along with him and keep company. "No way!" she replied and walked away without another word.

He asked his third wife. She said "Life is so good over here. I'm going to remarry when you die".

He then asked his second wife. She said "I'm Sorry. I can't help you this time around. At the most I can only accompany you till your grave."

By now his heart sank and he turned cold.

Then a voice called out: "I'll live with you. I'll follow you no matter where you go."

The man looked up and there was his first wife. She was so skinny, almost like she suffered from malnutrition. Greatly grieved, the man said, "I should have taken much better care of you while I could have!"

Actually, we all have four wives in our lives.

a. The fourth wife is our body. No matter how much time and effort we lavish in making it look good, it'll leave us when we die.

b. The third wife is our possession, status and wealth. When we die, they go to others.

c. The second wife is our family and friends. No matter how close they had been there for us when we're alive, the furthest they can stay by us is up to the grave.

d. The first wife is our soul, neglected in our pursuit of material wealth and pleasure. It is actually the only thing that follows us wherever we go.

Tuesday, 17 September 2013

आराध्य


नयनो में  दीप्त होते अटल अमर दो तारे 
जो कहते हम पा सकते लक्ष्य हमारे 
अधरों पर छाती है जब निर्मल निश्छल मुस्कान 
वो मिटा देती है जीवन श्रम की कातरता व थकान 
विचारों में है आथाह सगर सी गंभीरता 
जो हरती मेरे चंचल चपल मन की अधीरता
वाणी से छलकता वो हृदय के भीतर का विश्वास 
जो दूर करता संदेह व जीवन के उच्छ्वास 
दर्श में सिमट आती वसुधा की खुशियाँ सारी 
जो अनुभूति कराती है वात्सल्यपूर्ण  है सृष्टि हमारी

व्यक्तिव में है एक  अद्भुत (अदभुत ) चुम्बकीय  आकर्षण 
जो हृदय में हमारे करता उनके प्रति श्रद्धा उत्पन्न 
यदि मुझसे कोई पूछे कि कैसी होगी 
तुम्हारे आराध्य की सजीव मूरत 
तो पता है मुझे, प्रकट होगी नयन पटल पे 
उनकी ही अटल, अमर नयनाभिराम मूरत!!

Thursday, 8 August 2013

ये वक़्त नहीं,सोने का!!



क्या भारत "कुछ" लोगों का है??
क्या वक़्त अभी सोने का है??
हम दर्द अगर महसूस करें,
पीड़ा सेना की, समझ सकें...
तो खुद को रोक ना पायेंगे
और बात समझ ही जायेंगे
यह मौत का खेल, यूँ वीरों से,
आतंकी करे...या पाक करे…
यह वीर हमारे अपने थे
भारत माँ के रत्नों में थे 
कुछ नेता कहते-"शांत रहो
और गीत मैत्री के गाते रहो... 
यूँ ही वीरों को लुटाते रहो... 
हम गीत मैत्री के गायेंगे
खुद शांतिदूत बन,
भारत माँ के बेटों की,भेट चढ़ायेंगे"
बहता जो खून रगों में है,
खून नहीं है... पानी है...
सत्ता लोलुप लोगों के लिए,
ये बस हार जीत की कहानी है... 
जीवन का क्या?? लुट जाने दो..
सत्ता ना उन्हें गवानी है... 
अब डोर छीन लें इनसे हम 
अस्मत भारत माँ की बचानी है…
जो जान शहीदों ने दी है
वो भेट नहीं, कुर्बानी है...
अमन की झूठी आस नहीं 
ज्योत सरफरोशी की दिलों में जलानी है...
ये  देश नहीं "कुछ" लोगों का
ये वक़्त नहीं अब सोने का!!


  






Wednesday, 24 July 2013

मुझे काँटों पर प्यार आता है!

मुझे काँटों पे प्यार आता है
ना खिलने की चिंता, 
ना मुरझाने का डर
ना टूटने की चिंता, 
ना बिखरने का डर 
इन्हें अटल रहना आता है 
इसलिए मुझे काँटों पर प्यार आता है!!
ना धूप, ना छाँव का असर 
ना पानी ना हवाओं का असर 
इन्हें हर मौसम भाता है
इसीलिए मुझे काँटों पर प्यार आता है!!
ना कोई रंग ना कोई रूप 
ना ख़ुशी की चाहत ना ग़म से आहत
इन्हें कोई नहीं अपनाता है 
इसीलिए मुझे काँटों पर प्यार आता है
ना श्रद्धा मिलती,ना श्रधांजलि देता 
ना बालों में बाँधा जाता,
ना पैरों से रौंदा जाता 
इन्हें आत्मसम्मान की रक्षा करना खूब आता है 
इसीलिए मुझे काँटों पर प्यार आता है!!





Saturday, 22 June 2013

प्रकृति नहीं मनुष्य कर रहा है मनमानी !!


संवाददाता जोर जोर से चिल्ला रहे,
माँ गंगा को विध्वंसनी बता रहे हैं,
कहते हैं-"प्रकृति ने की है मनमानी"
गाँव, सड़क,शहरों में भर आया है बाड़ का पानी,
नदियों  को सीमित करनेवाले तटबंद टूटे 
ये देखकर प्रशासन के भी पसीने छूटे
बैराजों के दरवाज़े चरमरा उठे 
टेहरी जैसे बाँध भी जल को रोक न सके !
जीवन दुशवार हो रहा,
गंगा का जल आपे से बाहर हो रहा है!

किसी ने कहा:-" पानी क्या,तबाही है तबाही!!
प्रकृति को सुनाई नहीं देती,मासूमों की दुहाई??
नदियों के इस बर्ताव से,मानवता घायल होती है,
सच कहें तो, 
बरसात में नदियाँ पागल हो जाती हैं!!"

ऐसा सुनकर गंगा माँ मुस्कुराई 
और बयान देने जनता की अदालत में चली आयीं 
जब कठघरे में आकर माँ गंगा ने अपनी ज़बान खोली 
तो वो करुणापूर्ण आक्रोश में कुछ यूँ बोलीं :-
"मुझे भी अपना साम्राज्य छिनने का डर सालता है 
और मानव, मानव तो मेरी निर्मल धारा केवल कूड़ा डालता है 
धार्मिक आस्थाओं का कचरा,मुझे झेलना पड़ता है
जिंदा से लेकर,मुर्दों तक के अवशेषों को,अपने संग ठेलना पड़ता हैं,
अरे! जब मनुष्य मेरी अमृतधारा में पोलिथीन बहता है 
जब,मृत पशुओं की दुर्गन्ध से मेरा जीना दुर्भर हो जाता है,
जब,मेरी धरा में आकर मिलता है शहरों के गंदे नालों का पानी 
तब किसी को देखाई नहीं देती मनुष्य की मनमानी??"
"ये जो मेरे भीतर का जल है::इसकी प्रकृति ही अविरल है 
कोई भी अड़चन मुझसे सहन नहीं होती 
फिर भी युगों से मेरी धाराएं; तुम्हारे अत्याचारों का भार है ढोती!!
ऐसे ही थोड़ी आ जाती है बाढ!!
तुम निरंतर डाले जा रहे हो,मुझमें औद्योगिक विकास का कबाड़!!
मानवीय मनमानी जब हदें लांघ जाती हैं 
तभी प्रकृति अपनी सीमाएं-खूँटी पर टांग देती है। 
नदियों का जल जीवनदायी है 
परन्तु मानव प्रवृति ही आततायी है!
इसने निरंतर प्राकृतिक शोषण किया 
और अपने ओछे स्वार्थों का पोषण किया । 
नदियों की धारा को बांधता गया और मीलों  फैले,
मेरे विस्तार को कंकरीट के दम पर काटता गया। 
सच तो ये है,मनुष्य नदियों की ओर बढ़ता आया है 
नदियों की धरा को संकुचित कर इसी ने, शहर बसाया है। 
ध्यान से देखेंगे तो, आप समझ पाएंगे 
नदी शहर में घुसी है या शहर नदी में घुस आया है !!
जिसे बाड़ का नाम दे-दे; मनुष्य हैरान परेशान है 
ये तो नदियों का नेचुरल सफाई अभियान है 
"प्रकृति नहीं मनुष्य ही कर रहा है मनमानी !!"
ये तो, उसीके दुष्कृत्यों का परिणाम है!!

Saturday, 22 December 2012

निष्क्रियता त्यागो!!

Recent cartoon by Sudhir Tailang ji


निष्क्रियता त्यागो!! शासकों जागो !!! 

आज फिर से "मौन-व्रत" टूटा,
कहा-"ऐसा अपराध ना हो दोबारा!!"

हम कोई ठोस कदम नहीं उठायेंगे 
हम कोई कानूनी संशोधन नहीं लायेंगे 
मांगेंगे इन्साफ संसद में-चीख-चीख कर 
पर, ऐसे अपराधो के खिलाफ,आवाजों को दबायेंगे 
और फिर सरकार में बैठ चिल्लायेंगे - ऐसा  अपराध ना हो दोबारा!!
जन चेतना को, जन आक्रोश को 
विद्रोह बताकर, लाठियां बरसाएंगे 
आंसू गैस के गोले चलाएंगे 
जन प्रतिनिधि होते हुए भी 
जनता की भावनाओ को ना समझने का, ढोंग रचाएंगे!!
जब जनता के हाथ पैर टूट जायेंगे,
हम एक बैठक कर उनके नेता से मिलने की झूठी आस जगायेंगे !!
ऐसे अन्दोलन का कोई नेता ना पाकर मन ही मन मुस्कुराएंगे 
और फिर सरकार में बैठ चिल्लायेंगे - ऐसा  अपराध ना हो दोबारा  !!
अबला, कह कहकर नारी को सहमायेंगे 
जगह जगह सिर्फ कैमरे लगायेंगे 
और अपराध हो ने के बाद
अपराधियों को पकड़ने की वीर गाथाये गायेंगे!
कोई पुख्ता कानून ना लायेंगे 
जब अपराधी बेल पर छूट जायेंग,
हम  फिर सरकार में बैठ चिल्लायेंगे - ऐसा  अपराध ना हो दोबारा  !!
कहो तो, पीड़ित का बार बार पुलिस बयान करवाएंगे 
उसके परिवार के,मन में, कानून के लम्बे चक्करो का डर बैठाएंगे! 
न्याय के मंदिर कहे जानेवाले न्यायालो में बैठे
न्यायाधीशों के हाथ बांध-उन्हें बस पूजनीय मूरत बनायेंगे!
कोई फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट नहीं बनायेंगे
पीड़ित की वर्षों चप्पलें घिसवायेंगे 
पीड़ित का अगर आक्रोश फूटा 
तो उसी पे,न्यायलय व देव तुल्य न्यायाधीशों की 
अवमानना का केस चलाएंगे !!
और जब अपराधी पीड़ित की विवशता पे मुस्कायेंगे 
हम फिर सरकार में बैठ चिल्लायेंगे - ऐसा अपराध ना हो दोबारा  !!
यूँही चलता रहेगा क्रम,सोच सोच महलों में गर बैठे नेता, इठालायेंगे 
वो दिन दूर नहीं जब जनता गद्दी छीन 
स्वयं के, सामाजिक और नियम-कानून बनाएगी 
ऐसी रुत में, वो दिन दूर नहीं जब  ऐसी व्यवस्था चर्मराएगी 
कि कोई लाठी, कोई बन्दूक,कोई इमरजेंसी,  

उन्हें ना रोक पाएगी !!
इससे पहेले शासको जागो , समाज के ठेकेदारों जागो !!
अपनी यह निष्क्रियता त्यागो!!
लाओ मिलकर कानून ऐसा जिससे,
फिर कलंकित न हो भारत माँ का चेहरा !!
लाओ मिलकर ऐसी कानून व्यवस्था,
जिससे अपराधियों के मन में हो भय घनेरा !
और फिर सब मिलकर दोहराएंगे :-
भारत माँ के आँचल में सुरक्षित है हर नागरिक, हर अबला !!
हमारे सभ्य समाज में होगा नहीं, ऐसा अपराध फिर दोबारा !!
कहना नहीं पड़ेगा फिर यूँही, दिखावे के लिए 
"ऐसा अपराध ना हो दोबारा!!"

Sunday, 16 December 2012

"संतोष"


इंसान है आज बहका-बहका 
"संतोष-धन" है वो खो बैठा!!
विलास के साधनों से 
हैं आँखें, उसकी यूँ चुन्धियाई 
बिना सोचे ही, इस तृष्णा का 
बन गया है, वो अनुयायी !!
मद की मदहोशियों से 
वो यूँ आकर्षित हुआ 
की उसने, अपने चातुर्य
को भी है खो दिया !!
अभिमान का अँधेरा है 
उसपे ऐसा छाया 
कि स्वाभिमान की वाणी 
भी, वो सुन न पाया !!
कृत्रिमता के पटल ने है 
उसकी आँखों को यूँ छुपाया 
की सत्य- असत्य में 
वो भेद ना कर पाया !!
लोभ लालच ने इतना 
उसे है निर्मम बनाया 
कि औरों की  भावनाओ को 
वो समझ नहीं पाया !!
झूठ की धुंध ने 
है उसे चारों ओर से घेरा 
की दिखला न सका 
सत्य-पथ उसे कोई सवेरा !!
ईर्ष्या की रज में आता है 
नज़र वो सना हुआ 
आज प्रीत की धुन को भी 
है उसने भुला दिया !!
काश वो देख पाता 
आया है नज़र,उसे जो रेशम 
वो तो है,काल के मायाजाल  का रेशा !!
काश वो जान जाता   
जिन मानवीय-भावनाओ(सत्य,संतोष ,सय्यम) को,
समझने लगा है, वो अवरोधक 
वही हैं जीवन-सार, और यथार्थ 
वो ही है "पथ-प्रदर्शक" 
वो ही है-"लक्ष्य" मानवता का!!


Friday, 27 April 2012

" Eat food in Calm & cozy Atmosphere!!"- There is hidden logic behind this Adage..!!


“WE MUST EAT FOOD IN CALM & COZY ATMOSPHERE… AWAY FROM WORRIES & ANXIETY…Why??”
Before explaining the reason for the above Question.. Lets first have a look at the Digestive process taking place in our body. This will help in resolving the above query with Scientific reasoning & Logic.
The secretion of gastric juices plays a vital role during digestion.
Most mastication and little digestion of food in mouth, by the action of salivary amylase (a digestive enzyme present in saliva) the semi digested & semisolid food enters esophagus. Passing down the esophagus the food enters through the cardiac sphincter (a valve like opening present at the junction of esophagus & fundus of stomach) into the most dilatable portion of alimentary canal known as STOMACH
It is present in epigastric region partly on left of Hypochondriac & Umbical region 
Stomach is the organ present in abdominal cavity which acts as a churner and a temporary storage organ.
The inner lining of stomach is a mucous coat; which is soft and like corrugated folds. The corrugation disappears when stomach is distended with food.
The inner most coat of stomach has mucous membrane. This contains columnar cells that secrete mucous.
The surface of inner membrane is covered with tiny ducts from many gastric glands.
The gastric glands include-
  • Cardiac glands which lie near the cardiac sphincter. These secrete mucous.
  • Tubular glands /gland of fundus- these produce pepsin ( a proteolytic enzyme)
Functions of stomach
  • Stomach acts as temporary storage organ.
  • It contains 0.4% of HCl which acidifies food
  • Acidic atmosphere in stomach renders food safe, i.e. free of microbial infections.
  • Also acidic atmosphere is required for conversion of Pepsinogen(precursor of Pepsin-a proteolytic enzyme) to pepsin which acts on Proteins & breakdown them into peptones(more soluble form)
  • Food is churned by peristaltic waves & mixed with HCl & gastric juice and is prepared for intestinal digestion.
  • Rennin present in digestive juice of stomach curdles milk.
  • Fats are emulsified by  action of HCl.
  • An anti anemic factor is formed by ferment present in Gastric juice. This factor s necessary for absorption of Vit B-12(Cyanocobalmin) which is needed in Heam part of Hemoglobin. Absence of this factor can be responsible for occurrence of Pernicious Anemia.
  • Formation of Chyme takes place by the action Gastric secretions & HCl on partially digested food inside the stomach turning it into simpler components. Chyme is easily digested & absorbed in intestines. 
 Now, we come back to the main point of discussion:
WHY-WE MUST EAT FOOD IN CALM & COZY ATMOSPHERE… AWAY FROM
WORRIES & ANXIETY…??
“Bhojan aur bhajan Ekaant aur shantimay sthaan par karna chahiye..”
Secretion of gastric juice is quite important in DIGESTION PROCESS.
The process is both – nervous stimulated & a chemical process.
Mere sight or smell of well prepared food triggers the gastric secretion.
This period remains for about 20-30 minutes. At this time absorption of nutrients is at its peak. This is what can be known as period of craving for food.

Chemicals,too stimulate secretion.
Some chemicals present in food, interact with the walls of stomach and liberate an HORMONE called GASTRIN.
Gastrin is responsible for the
feedback mechanism of  
SYMPATHETIC NERVOUS SYSTEM(SNS) & CENTRAL NERVOUS SYSTEM (CNS)
                             Gastrin plays a Vital role in feedback for release of more of Gastric juices into alimentary canal.
When emotions are at peak (especially anger, fear or distress) the Sympathetic nervous system is affected. Mainly secretion of Adrenalin is responsible for imbalance in feedback mechanism. Generally lowering of Gastrin secretion occurs.
This may result in-
  • Rejection of food by stomach.
  • Partial digestion & partial absorption of nutrients.
  • Loss of appetite.
  • Feeling of butterflies in stomach due to contraction of stomach walls.
  • Unusual dilation of cardiac sphincter.. This can result in regurgitation of food & HEARTBURN.
  • An imbalance in release of gastric juice –Hypo-secretion can result in indigestion.
  • Hyper-secretion of Gastric juice may result in Gorging of food due to more feeling of hunger.
  • Hyper-secretion may also lead to acidity due to mental stress/ tension.
We can conclude, that the mood during Food intake is important factor to ensure proper digestion & absorption of Nutrients.
Even, the speed of eating food will affect the amount of Food intake. One can eat more food, if he eats quickly, during 20-30 minutes(ie. during-Period of craving for food) when the secretion of Gastrin & other Digestive juices is at the PEAK.
Finally, one more reason to say -"our preceding generations had a scientific outlook towards life!!"May be they never explained all the reasons. But they were aware of the facts & affects of Mood on food intake & absorption—
So, there is an era old adage  “Bhojan ekant mein, shant-mann se karna chahiye” 
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
Related Facts:-

Our Digestive System
    Digestive System
Abdominal cavity
  • It’s the largest cavity.
  • Oval in shape.
  • Extends from diaphragm to pelvis.
  • AC is divided into 2 parts        
-Abdomen proper( upper larger cavity)
-  Pelvis( lower & smaller cavity)
Position
Abdominal cavity lie above the diaphragm.
Below the brim of pelvis
Front has abdominal muscles
Sides are covered by iliac bones & lower ribs
Backside has vertebral column & Quadratus-Lumborum muscles.
Abdomen has
  • Stomach
  • Small intestine (major part of alimentary canal)
  • Liver is present on right upper part below the diaphragm
  • Gallbladder lies below the liver
  • Pancreas is behind the stomach & spleen lie at tail of pancreas.
  • Kidney & adrenal glands are present on posterior abdominal wall.
  • Ureters pass through abdominal cavity starting from Kidneys.

    Abdominal cavity